Informationजिम कॉर्बेट नेशनल पार्क : ट्रैवल गाइड और महत्वपूर्ण जानकरियाँ

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क : ट्रैवल गाइड और महत्वपूर्ण जानकरियाँ

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क वन्यजीव अभयारण्य उत्तराखंड में नैनीताल जिले के रामनगर में स्थित है। यह इकोटूरिज्म के शौकीन लोगों की सर्वाधिक पसंदीदा जगहों में से एक है। जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क में जहां एक ओर शेर की दहाड़, बाघ, तेंदुआ, भालू, हाथियों के झुंड आपको रोमांचित के देंगे वहीं दूसरी ओर कुलांचे भरते हिरणों के समूह, चहचहाते पक्षी, झरने और वादियां आपका मन मोह लेंगे। तो आइए जानते हैं कॉर्बेट नेशनल पार्क में भ्रमण से सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारियां लेकिन सबसे जानते हैं इस पार्क की खासियत…

कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान

ओल्डेस्ट (Oldest national park) नेशनल पार्क

- Advertisement -

गढ़वाल और कुमाऊं के बीच 1318 वर्ग किमी में फैला जिम कॉर्बेट पार्क भारत का सबसे ओल्डेस्ट (Oldest national park) नेशनल पार्क है। इसकी स्थापना 1936 में लुप्त प्राय बंगाल टाइगर को बचाने के लिए की गई थी। बाघ संरक्षण के मामले में यहां बाघों का घनत्व दुनिया में सबसे ज्यादा है। वर्तमान में यहां कुल 215 बाघ हैं।

पहले इस पार्क को रामगंगा राष्ट्रीय उद्यान के नाम से जाना जाता था। बाद में इसका नाम मशहूर शिकारी जिम कॉर्बेट के नाम पर जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क किया गया। जिम कॉर्बेटने इस पार्क की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

जंगल सफारी

जैव विविधता से भरे जिम कॉर्बेट वन्यजीव अभयारण्य में चीते, हाथी, शेर, भालू, बंदर, लंगूर,हिरण, नीलगाय सहित अनेकों प्रजाति के अन्य जीव जंतु और पशु पक्षी पाए जाते हैं। पूरे वर्ष भर पर्यटक वन्य जीव अभ्यारण्य में प्रकृति के सुंदर दृश्य और तरह-तरह के जीव जंतुओं को देखने आते हैं।

पर्यटक यहां पर घने जंगल जीव जंतु के अलावा, छोटे तालाब, झरने, रामगंगा नदी, सुंदर घास के मैदान देखने के अलावा जंगल सफारी का भी आनंद लेते हैं। घने जंगल और संरक्षित क्षेत्र होने के कारण पर्यटकों को कुछ ही चुनिंदा स्थानों पर पर्यटन की अनुमति दी जाती है।

- Advertisement -

शेर, हाथी, भालू, बाघ, सुअर, हिरन, चीतल, साँभर, पांडा, काकड़, नीलगाय, घुरल और चीता आदि ‘वन्य प्राणी’ जंगल सफारी के दौरान आसानी से देखने को मिलते हैं। लगभग 600 रंग – बिरंगे पक्षियों की जातियाँ भी कॉर्बेट वन्यजीव अभयारण्य में पाई जाती हैं।

भ्रमण का समय

कॉर्बेट पार्क नवंबर से मई तक पर्यटकों के लिए खुला रहता है। पार्क प्रबंधन द्वारा निर्धारित शुल्क जमा कराने के बाद आप यहां पर भ्रमण और जंगल सफारी का आनंद ले सकते हैं। जिम कॉर्बेट पार्क में पर्यटकों के भ्रमण और जंगल सफारी का समय गर्मियों और सर्दियों के अनुसार परिवर्तित होता रहता है।

- Advertisement -

जंगल सफारी के दौरान पर्यटकों के सुविधाजनक और आनंददायक भ्रमण के लिए गाइड भी उपलब्ध कराये जाते हैं। सर्दियों के मौसम में सुबह की सफारी 7:30am बजेसे 10:30am तक और शाम की सफारी 3:00pm– 5:00pm तक की जा सकती है. गर्मियों में सुबह की सफारी 6:30am से 9:30am और शाम की सफारी 4:00pm से 6:00pm तक निर्धारित है।

कब और कैसे जाएं ?

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्कदिल्ली से लगभग 290 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। दिल्ली से बसों और टैक्सी की मदद से रामनगर होते हुए जिम कॉर्बेट पार्क  आसानी से पहुंचा जा सकता है। हवाई सेवाओं के लिए सबसे निकटतम हवाई अड्डा पंतनगर हवाई अड्डा है। इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय हवाई सेवाओं के लिए निकटतम हवाई अड्डा दिल्ली स्थित इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है। रेल मार्ग से भी जिम कॉर्बेट की यात्रा कर सकते हैं। निकटतम रेलवे स्टेशन रामनगर मैं स्थित है। यहां से जिम कॉर्बेट पार्क की दूरी लगभग 12 किलोमीटर है। 

यहां रहने और ठहरने के लिए पर्यटक आवास गृह आसानी से उपलब्ध हैं। पार्क प्रबंधन द्वारा भी पर्यटकों के रहने खाने और ठहरने की व्यवस्था की जाती है। ऑनलाइन बुकिंग के जरिये भी पर्यटक आवास गृह की बुकिं की जा सकती है।

Related Post